Bulandshahr Bazar

Bulandshahr Bazar Hello Visitor !!! My name is Sandeep Sharma, founder of SHIV SHAKTI INFORMATICS. My passion is in seeing businesses get a good start and increase in profits by wisely using the internet and by intelligent web design. My expertise is in the area of web design and web services. My background includes executive positions in management. I know what it means to lose money by not efficiently using web-based services. I have seen companies fail. As one of my clients, I want your company to not only grow, but to grow and expand so your profits multiply. When we take you on as a client, I will ensure that your product or service is distributed throughout the world.
28.406963 77.8498292
MAKE AN ENQUIRY
SEND
SHARE WITH OTHERS
Open on Sunday from 10:00AM to 8:00PM
Saturday from 10:00AM to 8:00PM
MORE ABOUT US
See new updates

Hello Visitor !!! My name is Sandeep Sharma, founder of SHIV SHAKTI INFORMATICS. My passion is in seeing businesses get a good start and increase in profits by wisely using the internet and by intelligent web design. My expertise is in the area of web design and web services. My background includes executive positions in management. I know what it means to lose money by not efficiently using web-based services. I have seen companies fail. As one of my clients, I want your company to not only grow, but to grow and expand so your profits multiply. When we take you on as a client, I will ensure that your product or service is distributed throughout the world.

Latest Updates

राजनीति में जीत हार का फैसला अब पीआर एजेंसियां और डिजिटल कंपनियां बखूबी करने लगी हैं. अब नेताओं और कार्यकर्ताओं का जन-संपर्क अभियान और पब्लिक की नब्ज़ पकड़ने की कला जवाब देने लगी है. कहते हैं दुनिया के पुराने धंधों में से एक 'राजनीति' के खिलाड़ी काफी चतुर होते हैं, लेकिन अब उनकी चतुराई के ऊपर भी आदेश देने वाले और रणनीतियां बनाने वाले बड़ी संख्या में सामने आ रहे हैं. देखा जाए तो यह ट्रेंड 'डेमोक्रेसी' के लिए थोड़ा अटपटा सा है, क्योंकि जनता में जो 'एजेंसियां' या 'कंसल्टेंट' किसी नेता या पार्टी का प्रचार कर रहे हैं, वह जनता के प्रति जवाबदेह तो हैं नहीं और उनका उद्देश्य 'येन, केन, प्रकारेण' जीत हासिल करना होता है, वह भी 'कॉर्पोरेट स्टाइल' में. इसके लिए वह टेक्नोलॉजी से लेकर, तमाम मीडिया ऑप्शन और पैसे का खुलकर प्रयोग करते हैं, पीआर यानि 'पब्लिक रिलेशन' और पीआर कंपनियों का काम होता है 'ब्रांडिंग और इमेज बिल्डिंग' जिससे नेताओं या पार्टी की समाज में सकारात्मक छवि बनायी जा सके और उसके सहारे उसकी 'चुनावी' नैय्या पार हो सके! इसकी कार्यप्रणाली की बात करें तो, पीआर कंपनियां जनता या टार्गेट ऑडियंस के मन में किसी भी पार्टी की सकारात्मक इमेज बनाने में सक्षम होती हैं और इसके लिए, गलत या सही तरीके से टार्गेट ऑडियंस को प्रभावित करने वाले लोगों और चीजों पर उनका ध्यान सर्वाधिक होता है.

   18 days ago
SEND